चमत्कारी फार्मूला : सरसों में पहली सिंचाई पर डाले यह खाद व स्प्रे उत्पादन 18 किवंटल की गारंटी ! वैज्ञानिक फार्मूला

सरसों की पहली सिंचाई में यदि इस खाद के फार्मूले का इस्तेमाल करते है तो उत्पादन 18 क्विंटल तक होगा। सरसों की पहली सिंचाई के समय ऐसी कौन-कौन से खाद्य, उर्वरक डालें ताकि सरसों का उत्पादन 14 से 18 क्विंटल तक हो। क्या-क्या सावधानियां रखनी चाहिए और किस फर्टिलाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए ताकि उत्पादन अच्छा निकल सके। इस लेख में एक चमत्कारी तरीका भी बताया गया है जिसका लाभ लेना चाहते है तो लेख पूरा पढ़े।

सरसों की बिजाई और पहली सिंचाई के समय यदि आप छोटी सी भी लापरवाही करते हैं तो आपको बड़े नुकसान की तरह ले जा सकती है। और सरसों की बिजाई करते समय आवश्यक कुछ खाद या उर्वरकों की पूर्ति नहीं कर सके हैं तो क्या पहले सिंचाई के समय उनकी पूर्ति कर सकते हैं और पहली सिचाई करने का सही समय क्या है यह सभी जानकारियां इस लेख के माध्यम से जानेंगे।

यदि सरसों का उत्पादन 12 से 15 क्विंटल तक का प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़िए क्योंकि इसमें बहुत ही आवश्यक और महत्वपूर्ण जानकारियां साझा की गई है जो आपके सरसों की फसल का उत्पादन बढ़ाने में काफी मददगार साबित होने वाली है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

और इसी तरह की जानकारियां प्राप्त करने के लिए आप हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से अवश्य जुड़े।

सरसों में पहली सिंचाई कब और कैसे करें?

सरसों की पहली सिंचाई 25 दिन से 35 दिन के भीतर होती है लेकिन यदि खेत की मिट्टी रेतीली है उसमें नमी अधिक समय तक नहीं टिकती है और मिट्टी में नमी ख़तम हो चुकी है तना मोटा नहीं हो रहा पतला है और ऊपर सीधे चला जा रहा है दिन के समय में पौधा मुरझा जा रहा है फसल 15 दिन की हो, 18 दिन की हो, 20 दिन, 22 दिन और 25 दिन की हो, तो उस स्थिति में पहले ही सिंचाई करनी पड़ेगी। यह इंतजार नहीं करना है कि जब पौधा 25 से 35 दिन का हो जाएगा तब सिंचाई करनी है।

लेकिन यदि खेत की अच्छी तरह से तैयारी करके तब सरसों की बिजाई की है तो उस स्थिति में सरसों की पहली सिंचाई करने से पहले बुवाई से 30वें दिन खेत में जा कर देखे यदि सरसों के पौधों में 6 से 7 अच्छी चौड़ाई वाली पत्तियां निकल चुकी हैं तो आप इस अवस्था में सरसों की सिंचाई करें। यदि उससे पहले या बाद में सिंचाई करते हैं तो उत्पादन अवश्य ही प्रभावित होगा।

यदि सरसों की फसल में पौधों की छोटी अवस्था में सिंचाई कर देते हैं तो पौधों का तना मोटा नहीं होगा और उसमें अधिक शाखाएं नहीं निकलेंगी और पौधे में पूरी लंबाई नहीं आ पाएगी जिससे पौधा कुपोषित हो जाएगा और जिससे उत्पादन प्रभावित होगा।

ध्यान रहे की सिंचाई करते समय भारी मिट्टी हो सिंचाई सिर्फ ऐसा करना है कि खेत में सिर्फ नमी हो जाए पौधे पानी में नहीं डूबने चाहिए और यदि हल्की मिट्टी है तो ऐसी सिंचाई करें कि पानी खेत में लग जाए क्योंकि 2 घंटे से 3 घंटे में पानी पूरी तरह से सूख जाएगा और पौधों को कोई भी हानि नहीं होगी।

ध्यान देने वाली बात यह है कि यदि आपके खेत में पौधों की संख्या अधिक है तब अतिरिक्त पौधों को उखाड़ दें क्योंकि पौधों की संख्या अधिक होने से पौधों में फुटान कम होगा, शाखाएं कम निकलती है और फलियां कम बनती हैं। पौधों की संख्या अधिक होने से रोगों का प्रकोप भी अधिक होता है आगे चलकर पौधों में व्हाइट रस्ट जिसमे पौधों का तना सड़ जाता है और फंगस वाला रोग लग जाता है।

क्योंकि जब पौधों की संख्या अधिक होती है तो ओस पड़ने पर पौधों की संख्या अधिक होने के कारण हवा का बहाव पेड़ों के बीच में कम होता है जिससे ओस सुख नहीं पाती है और पौधों में सड़न शुरू हो जाता है। इस लिए अतिरक्त पौधों को उखाड़ देना चाहिए।

यह भी पढ़े >> नई खोज: सरसों में फूल फलियाँ बनते समय मात्र 200 रु के खर्च में पूरा खेत फलियों से लद जाएगा !

खाद प्रबंधन

यदि सरसों की बुवाई के समय में डीएपी सिंगल सुपर फास्फेट यूरिया सल्फर पोटाश यह सभी खाद और उर्वरक दे चुके हैं तो 30 दिन के बाद आप देखेंगे कि फसल अच्छी खासी लहलहा रही होगी।

लेकिन यदि बुवाई के समय डीएपी या सिंगल सुपर फास्फेट नहीं डाले हैं तो पहली सिंचाई के समय डाल सकते हैं इसका लाभ फसल को अवश्य मिलता है।

डीएपी प्रति एकड़ 30 किलो, सिंगल सुपर फास्फेट प्रति एकड़ 50 किलो और यूरिया प्रति एकड़ 30 से 35 किलो और सल्फर प्रति एकड़ 3 किलो इन सभी को अच्छी तरह से मिला करके खेत में सिंचाई से पहले अच्छी तरह से छिट दीजिए।

जब आप सिंचाई करेंगे तो सिंचाई करते समय पानी के साथ यह सभी खाद उर्वरक पौधों की जड़ तक पहुंच जाएंगे और इसका लाभ कुछ ही दिनों में दिखाई देने लगेगा।

यदि आपको लग रहा है कि ऐसा करने से कोई लाभ नहीं होने वाला या फिर हानि हो सकती है तो आप अपने खेत की एक छोटे से भाग में करके देख लीजिए आपको 5 से 10 दिन में ही फर्क देखने को मिलेगा। जब आपको लगे कि इसका लाभ मिल रहा है तो आप अगले साल अपनी फसल में इस विधि का प्रयोग जरूर करें।

अब बात करते हैं उन किसानों के लिए जिन्होंने यह सारे खाद और उर्वरक बुवाई के समय ही डाल दिया था वे किसान सिर्फ एक बैग यूरिया प्रति एकड़ के हिसाब से डालें, अब चाहे यूरिया को आप सिंचाई करने से पहले डालें या बाद में डालें दोनों ही तरीके से काम करेगा।

अब बात करते हैं चमत्कारिक फार्मूले के बारे में जिससे आपको सबसे अधिक लाभ मिलने वाला है। जब आप सिंचाई कर दे तब सिंचाई करने के चार से पांच दिन बाद खेत में NPK 19-19-19 प्रति एकड़ 1 किलो के हिसाब से छिड़काव कर दीजिए इससे यह होगा कि यदि आपकी फसल में नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम की कमी होगी तो पौधों के पत्तों के माध्यम से पूर्ति हो जाएगी।

इस लेख में दिए गए जानकारी का पालन करते है तो शानदार सरसों का उत्पादन देखने को मिलेगा।

यह भी पढ़े –

>> मक्खन फल ने बनाया 26 साल के युवा को करोड़पति
>> डी ए पी खाद की पॉवर कैसे बढ़ाएँ ?

Disclaimer : todaymandibhav.com वेबसाइट पर उपलब्ध करवाए गए सभी मंडी भाव कृषि चैनल व एजी मार्केट के भावो पर आधारित है, कृपया अपनी फसल को बेचने व खरीदने से पहले अपने पास की मंडी में फसल के भाव जांच अवश्य करे नोट - लेख में दी गई जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध भरोसेमंद स्रोतों तथा किसानों के निजी अनुभव पर आधारित है किसी भी जानकारी को प्रयोग में लाने से पहले कृषि विशेषज्ञ से सलाह अवश्य ले।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Related Posts

chuha bhagane ka upay

लल्लनटॉप उपाय: खेत से चूहे भागने का 100 प्रतिशत आसान उपाय मात्र 5₹ में सारे चूहे खेत गायब

चूहों से अपनी खड़ी फसल को बचाना चाहते है तो बहुत मजेदार और असरदार तरीका बताने वाले है मात्र 5 रूपए खर्च करके अपनी गेहूँ की फसल…

Khapli wheat farming in Mp

नई खोज: गेहूँ के इस किस्म का बाजार भाव ₹10,000 प्रति क्विंटल मिल रहा है मालामाल कर देगी यह किस्म

राम राम भाइयों के हालचाल आज इस लेख में गेहूँ के ऐसी किस्म के बारे में जानकारी देने वाले है जिसका बाजार भाव 100 रूपए किलो तक…

Feburuary me konsi sabji lagaye

ताबतोड़ कमाई: इस फरवरी भिंडी के साथ लगाएँ ये तीन सब्जी फसलें होगी तीन गुना कमाई

यदि फरवरी के महीने में खेती करके कम से कम समय में लाखो रूपए कमाना हैं तो सब्जी की फसल सबसे अच्छी मानी जाती है सब्जी की…

Nilgai for just ₹50

नई दवा: मात्र ₹50 में नीलगाय, आवारा पशु भगाने की दवा सबसे असरदार दवा घर बैठे मंगावए 100% असरदार

Nilgai bhagane ka tarika: नीलगाय, आवारा पशु, रोजड़ा, जंगली सूअर को भगाने की इस दवा को घर बैठे मंगवा सकते है। किसान भाइयो यदि हम अपनी फसल…

Earned 4 lakhs in 60 days

60 दिन में कमाए 4 लाख, फरवरी में लगाए ये मजेदार सब्जी फसलें मिलेगा कर्ज से छुटकारा

फरवरी के माह में इन सब्जियों की खेती करके 3 से 4 लाख रूपए तक कमा सकते है। जनवरी माह का कुछ दिन ही बचा है और…

gehu ki phasal me bada khatara

चेतावनी: गेहूँ की फसल पर बड़ा खतरा, कर लो ये उपाय नहीं पैदावार हो जाएगी आधी

इस बार गेहूँ की फसल पर खतरा मडरा रहा है गेहूँ की पैदावार अधिक प्रभावित होने वाली है हाल ही में हुए किसान वेलफेयर क्लब के द्वारा…

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *